Jio का डेटा प्लान इतना सस्ता क्यों है, खुल गया राज

जब से जिओ ने 4G सर्विस लॉन्च की है, तब से बॉकी के ऑपरेटरों ने भी अपने डेटा प्लान के रेट में कटौती की है। तो आइए जानते हैं कि आखिर जियो इतना सस्ता इंटरनेट कैसे देता है? क्या जिओ को इससे फायदा हो रहा है? अन्य कंपनियां क्यों नहीं दे पाती हैं जियो को टक्कर?

ऐसे पहुंचता है इंटरनेट आप तक

वास्तव में अगर बात करें तो इंटरनेट सर्विस बिलकुल मुफ़्त होती है। अगर आप दो कम्प्यूटर को LAN केबल से जोड़ देंगे तो दोनों कम्प्यूटर के बीच कनेक्टिविटी हो जाती है। दोनो कंप्यूटर के बीच चाहे कोई फ़ाइल ट्रांसफर करनी हो या कोई इन्फॉर्मेशन, सब आसानी से हो जाता है। इसमे खर्च सिर्फ LAN केबल का आता है।
इसी तरह पूरी दुनिया इंटरनेट की कनेक्टिविटी के लिए ऑप्टिकल फाईबर केबल से जुड़ी होती है, जो कि समुद्र के रास्ते बिछी होती है। इन ऑप्टीकल केबल में आपके बाल से भी पतले हजारों केबल मौजूद होते हैं। एक केबल में जीबी पर सेकेंड के हिसाब से डाटा का फ्लो होता है। ऑप्टीकल केबल बिछाने और इसके मेंटेनेंस का खर्च टीयर वन कंपनी करती है। जो इसके लिए टीयर टू कंपनी से चार्ज करती है और टीयर टू कंपनी जिसने की भारत में अपने ऑप्टीकल केबल बिछा रखा है वह अपने उपभोक्ताओं से इसका पैसा लेेती है। इस तरह से हम इंटरनेट से पूरी दुनिया से कनेक्ट हो जाते हैं। इंडिया में टाटा क्म्यूनिकेशन टीयर वन कंपनी है जिसने पूरे विश्व में अपने ऑप्टीकल केबल को बिछाया हुआ है। सभी टेलिकॉम ऑपरेटर , टाटा कम्युनिकेशन का इस्तेमाल किया करती हैं और डाटा पर पर सेकेंड के हिसाब से भुगतान करती है।

इस वजह से जियो देता है सस्ता इंटरनेट

पिछले साल आयी कंपनी जियो ने सबसे सस्ता डाटा देकर टेलीकॉम सेक्टर में तहलका मचा दिया। ऐसा इसलिए संभव हुआ क्योंकि लॉन्च से पहले, 5 सालों तक जियो ने भारत के हर शहर, हर गाँव तक ऑप्टिकल फाईबर केबल बिछाया है जो 40 टीबी के बैंडविथ के साथ डाटा फ्लो करती है। इसके साथ ही जियो ने एशिया, अफ्रीका और यूरोप में समुद्र के नीचे भी केबल बिछाया हुआ है। जिसके कारण इसे टीयर वन कंपनी को भुगतान नहीं करना पड़ता है। जियो के पास खुद का इंफ्रास्ट्रक्चर होने की वजह से अपने ग्राहकों को सबसे सस्ता डाटा उपलब्ध करवाता है।

Source: haribhoomi.com

यह पोस्ट मात्र एजुकेशन के उद्देश्य से लिखा गया है। लेखक गुरु गोविंद सिंह इन्द्रपस्थ यूनिवर्सिटी में IT एजुकेशन में अध्यनरत है।

1 Comment
  1. Reply
    Thomas Kebipam October 12, 2017 at 9:04 pm

    Nice Post

    Leave a reply

    techogic India
    techogic India